मिलिंग मशीन क्या है? मिलिंग मशीन का इतिहास

मिलिंग मशीन क्या है?

मिलिंग मशीन एक ऐसा मशीन है जो मुख्य रूप से धातु उद्योग में पाया जाता है। मिलिंग मशीन धातु, लकड़ी और अन्य ठोस पदार्थों को आकर देने के लिए बनाया है| पहेले से बनी हुई डिज़ाइन को वर्टिकली और हॉरिज़ॉटिली मोड़ने के लिए ऑटोमेटेड मिलिंग मशीन का इस्तिमाल किया जाता है| सामान्य तौर पर, इन मशीनों का उपयोग पहेले से बनी ठोस सामग्री को आकार देने के लिए किया जाता है।. – स्लॉट कटिंग, थ्रेडिंग, रबबेटिंग से लेकर रूटिंग, प्लानिंग और ड्रिलिंग, मिलिंग मशीनों का उपयोग विभिन्न प्रकार के कॉम्प्लिकेटेड कटिंग के लिए किया जाता है| उसका उपयोग डाई सिंक में भी किया जाता है, जिसमें एक स्टील ब्लॉक को फिर से जोड़ना होता है, ताकि इसका उपयोग विभिन्न कार्यों के लिए किया जा सके, जैसे प्लास्टिक को ढालना या सिक्के बनाना।

मिलिंग मशीनरी को मैन्युअल रूप से या डिजिटल रूप चलाया जाता है, डिजिटल रूप से चलाने के लिए एक डिवाइस का इस्तिमाल किया जाता हे जिसे कंप्यूटर संख्यात्मक नियंत्रण और सीएनसी मिलिंग मशीन कहा जाता है| एक पुराने मैनुअल मशीन में X, Y और Z एक्सेस पाए जाते हैं। लेकिन मिलिंग सीएनसी मशीन में अक्सर एक या दो अतिरिक्त एक्सेस होते हैं। ज्यादा एक्सेस हमारे काम को ज्यादा फ्लेक्सिबिलिटी देता हैं। सीएनसी मशीन में एकभी ऑपरेटर की आवश्यकता नहीं होती जो आपके लेबर कॉस्ट्स को कम कर देता हैं।

मिलिंग मशीन का इतिहास

1816 में चीजों को हाथ के बजाए मशीन से आकर देने के लिए मशीन बनाये गये और चीजों को हाथ के बजाए मशीन से आकर देने का काम शुरू हुवा था, बाद मे 1818 में व्हिटनी नाम के व्यक्ति ने पहली मिलिंग मशीन का आविष्कार किया था और थोड़े साल बाद 1818 में एली व्हिटनी (सूती जिन के आविष्कारक) ने न्यू हैवियर कनेक्टिकट में एक और मिलिंग मशीन का आविष्कार हुवा था। पहले के मिलिंग मशीन में मुख्य रूप से फाइल थी और मशीन को चलाने के लिए कुशल ऑपरेटर की आवश्यकता थी। हाला की फाइल्स का इस्तिमाल कर के कम कुशल भी कुशल व्यक्ति जितना ही अच्छा काम कर सकता था| सरकार ने मिलिंग मशीन का उपयोग राइफल्स बनाने के लिए किया| सीएनसी (टेप) मशीनें 1953 के आसपास दिखाई देने लगीं, पहले के समय में इंग्लैंड में बनी लकड़ी की मिलिंग मशीन जो एक फाउंड्री में पैटर्न बनाने में इस्तेमाल की जाती थी। इस मशीन में एक ऑक्टोपस की तुलना में अधिक अक्ष थे। टेबल के पास x,y और z अक्ष थे जो घूमते और झुकते थे| इन सभी मोशंस को गियर चेंज द्वारा बनाया गया था।